पंजाब पुलिस ने मंगलवार को पंजाबी गायक सिद्धू मुसेवाल की हत्या के मामले में संदिग्धों से मुलाकात की। 

अमृतसर के पास एक गांव में चार घंटे की मुठभेड़ में गैंगस्टर जगरूप रूपा और मनप्रीत उर्फ ​​मन्नू मारा गया, जबकि तीन पुलिसकर्मी भी घायल हो गए।

 दो अन्य बंदूकधारियों के मारे जाने की खबर है, लेकिन इसकी पुष्टि नहीं हुई है। 

पुलिस के मुताबिक मुठभेड़ में पहले जगरूप रूपा मारा गया, लेकिन दूसरे संदिग्ध मनप्रीत सिंह ने करीब एक घंटे तक ताबड़तोड़ फायरिंग की.

 चार घंटे तक चली फायरिंग के बाद उसकी भी गोली मारकर हत्या कर दी गई। यह मुठभेड़ अमृतसर के भकना कलानौर गांव में हुई. 

क्रास फायरिंग में एक न्‍यूज चैनल के कैमराज्‍य के पुलिस प्रमुख गौरव यादव भी अमृतसर से करीब 20 किमी दूर भाकना गांव स्थित एनकाउंटर स्‍थल पर पहुंचे थे.

 पंजाब पुलिस के एंटी गैंगस्‍टर टॉस्‍क फोर्स की अगुवाई करने वाले एडीजीपी प्रमोद बेन ने बताया कि गैंगस्टर्स के पास से एके 47 और विदेशी पिस्टल के अलावा बड़ी संख्या में कारतूस और मैग्जीन बरामद हुए हैं.

कहा जा रहा है कि मनप्रीत ही वो शूटर है, जिसने सबसे पहली गोली AK47 से मूसेवाला पर चलाई थी.

 सूत्रों के मुताबिक- कनाडा में बैठे गैंगस्टर गोल्डी बरार ने आदेश दिया था कि मनप्रीत ही सबसे पहली गोली मूसेवाला पर चलाएगा. 

दरअसल, मनप्रीत जब पंजाब की जेल में बंद था तब पटियाला गैंग के सदस्यों ने जेल में इसकी जूते-चप्पलों से पिटाई की थी और उस वीडियो को वायरल कर दिया था.